Wednesday, 8 September 2010

वो अध् खुली खिड़की......!

घर के सामने
गली के उस पार
पहली मंजिल पर
वो अध् खुली खिड़की .........!
हर रोज मुझे
हैरत करती थी ...
इक गहरी ख़ामोशी,
कुछ विरानियाँ
और कितने राज
छुपाये लगती थी खुद में .... ॥
देर श्याम
अँधेरे के साथ
कुछ परछाईयाँ झिलमिल होती
किन्तु एक दम मौन ...
और खिड़की ज्यों की त्यों
वो अध् खुली खिड़की .........!
खुद की बेचैनी
कुछ इस तरह ख़त्म हुई थी उस दिन .... ॥
कमरे में
कुछ पुराना सामन
और दो ही जन थे
"वृद्ध" दादा -दादी ......... ॥
बेटा , बहु और पोते के साथ
विदेश में रहता है ।
उनकी दुनियां
उस कमरे में ही सीमित थी ॥
और खिड़की की तरफ
कभी कोई रुख ना था,
ना कोई आस थी,
किसी के आने की,
ना किसी को झाँकने की ॥
और खिड़की
ज्यों की त्यों ....!
ना जाने कब से
वो अध् खुली खिड़की ......
आज भी जब
उस खिड़की की याद आती है
तो आँखे बरबस छलछला आती हैं ...
आज हम भी ऐसे ही कमरे में
कुछ पुराने सामन के साथ ...... ॥
ना कोई आस है
किसी के आने की
ना किसी को झाँकने की
आज भी
ज्यों की त्यों.......
वो अध् खुली खिड़की .....!


6 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    हिन्दी का प्रचार राष्ट्रीयता का प्रचार है।

    काव्य प्रयोजन (भाग-७)कला कला के लिए, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    ReplyDelete
  2. दिल की गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना , बधाई

    ReplyDelete
  3. बुदापा तो महज तैयारी है हकीकत की,
    मौत तो आखिर सबसे अलग कर ही देती है ...
    सुन्दर और प्रभावशाली काव्यात्मक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  4. बहुत प्रभावशाली रचना ...

    ReplyDelete
  5. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 14 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ............माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete